/यह कैसी भर्ती: अरजेंट टेम्परेरी बेस भर्ती की प्रक्रिया ही तय नहीं एक अभ्यर्थी 2-3 जगह देगा इंटरव्यू, फिर भी सीटें खाली रहने की आशंका

यह कैसी भर्ती: अरजेंट टेम्परेरी बेस भर्ती की प्रक्रिया ही तय नहीं एक अभ्यर्थी 2-3 जगह देगा इंटरव्यू, फिर भी सीटें खाली रहने की आशंका

कहां-कितनी

40 पद अजमेर में, 40 अलवर में, 40 भरतपुर में, 40 बीकानेर में, 40 चित्तौड़गढ़ में भर्ती होनी हैं 100 पद जयपुर में, 50 जोधपुर में, 40 कोटा में और 20 पद उदयपुर में भरे जाने हैं !

सरकार और चिकित्सा विभाग की बिना प्लानिंग के की जा रही यूटीबी (अरजेंट टेम्परेरी बेस) भर्ती प्रक्रिया सभी के लिए परेशानी का सबब बन गई है। चिकित्सा विभाग ने आठ मेडिकल कॉलेजों में भर्ती के लिए प्रक्रिया तो शुरू कर दी लेकिन अलग-अलग तारीखों पर। ऐसे में यह तय नहीं हो पा रहा है कि कौन अभ्यर्थी कहां इंटरव्यू देगा। होगा यह कि एक ही अभ्यर्थी लगभग सभी जगहों पर इंटरव्यू देगा और जब उसका किन्हीं दो-तीन जगहों पर सलेक्शन होगा तो मनचाही सीट लेगा। नतीजतन अन्य सीटें खाली रह जाएंगी। यानि कि विभाग को खाली जगहों पर सीट भरने के लिए फिर से मशक्कत करनी होगी। वहीं दूसरी ओर अभ्यर्थी भी एक-जगह से दूसरी जगह पर भागदौड़ करेंगे और व्यवस्थाएं खराब होंगी।

यह कर सकती है सरकार :

सरकार यूटीबी आधार पर जो भर्ती की जानी है वह राज्य स्तर पर की जाए। न केवल भर्ती प्रक्रिया पूर्ण पारदर्शिता होगी बल्कि अभ्यर्थी भी परेशान नहीं होंगे। राज्य स्तर पर मेरिट लिस्ट बनाकर मेरिट के आधार पर मेडिकल कॉलेज बांट दी जाए। इससे सभी मेडिकल कॉलेज में जितनी सीट होंगी वह भी भर जाएंगी। मामले को लेकर राजस्थान नर्सेज एसोसिएशन के प्रदेश संगठन महामंत्री सुनील शर्मा एवं प्रदेश संयोजक शशीकांत शर्मा व विनीता शेखावत ने सरकार से नियमबद्ध भर्ती की मांग की है। वहीं जयपुर में गुरुवार को हुई भर्ती प्रक्रिया के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ी।

कहीं नियमों का पालन नहीं :

जहां जगह-जगह इंटरव्यू की तारीखें दी गई हैं, वहीं इंटरव्यू के दौरान कोरोना से बचाव के लिए कोई इंतजामा नहीं किए गए हैं। हालात है कि जयपुर में ही गुरुवार को किए गए वॉक इन इंटरव्यू में सैकड़ों अभ्यर्थी पहुंच गए। इनके लिए न तो कोई बैठने के बंदोबस्त थे ना सोशल डिस्टेंसिंग जैसे नियमों की पालना के लिए कुछ। सबकुछ अभ्यर्थियों पर ही तय था कि उन्हें कैसे रहना है और क्या करना है। अभ्यर्थियों और परिजनों पर पुलिस ने बलप्रयोग भी किया। प्रक्रिया के तहत जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, अजमेर, कोटा, झालावाड़, भरतपुर, सीकर व अन्य मेडिकल कॉलेजों में भर्ती होनी है।